Breaking News

किसानों व आम आदमी की जेबों पर कुठाराघात है मोदी सरकार -2 का पहला बजट

Team ANN Media | TEAM ANN

Updated on : July 06, 2019


किसानों व आम आदमी की जेबों पर कुठाराघात है मोदी सरकार -2 का पहला बजट


फरीदाबाद। देश की वित्तमंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण द्वारा आज प्रस्तुत किए गए बजट को तिगांव विधानसभा क्षेत्र के कांग्रेसी विधायक ललित नागर ने आंकड़ों की जुमलेबाजी व निराशाजनक बताते हुए कहा कि यह बजट आम आदमी को निराश करने वाला बजट है और डीजल-पेट्रोल के दामों में एक-एक प्रतिशत अतिरिक्त सैस लगाकर आम आदमी के साथ-साथ किसानों को भी छलने का काम किया है। उन्होंने कहा कि 2022 तक किसानों की आय को दुगुना करने का दम भरने वाली मोदी सरकार-2 के पहले बजट में यह दर्शाया है कि यह सरकार कतई किसान हितैषी नहीं है। उन्होंने कहा कि यह बजट उन करोड़ों किसानों और आम नागरिकों के साथ विश्वासघात है जिन्होंने भाजपा को अभी हाल के लोकसभा चुनावों में ऐतिहासिक बहुमत दिया था। उन्होंने आश्चर्य व्यक्त किया कि बजट में एक भी ऐसा वाक्य नहीं बोला गया जिसमें किसानों का जिक्र हो। किसानों को किसी प्रकार की राहत देना तो दूर, सरकार ने डीजल की कीमत में एक प्रतिशत का अतिरिक्त सैस लगाकर उसके लागत मूल्य को बढ़ाने का काम किया है। बजट में किसानों की उस मांग को भी अनदेखा किया है जो कृषि उपकरणों पर लगे जीएसटी को हटाने बारे थी। श्री नागर ने कहा कि जहां जनता महंगाई से पहले ही त्रस्त थी, इस बजट के बाद लोगों की जेबों पर अतिरिक्त बोझ पड़ेगा। उन्होंने कहा कि देश के व्यापारी वर्ग को उम्मीद थी कि सरकार जीएसटी स्लैब में बदलाव करके व्यापारियों को राहत देने का काम करेगी, लेकिन इस बजट में जीएसटी में कोई बदलाव न करके मोदी सरकार ने अपनी व्यापारी विरोधी नीति का परिचय देने का काम किया है। 



  • Tags:
leave a comment

आज का पोल और पढ़ें...

फेसबुक पर लाइक करें

ट्विटर पर फॉलो करें